JEEWAN SANGEET

Friday, June 18, 2010

मैं अकेला हो गया हूँ

रो रहा क्यों व्यर्थ रे मन
कौन अपना है यंहा पर .
मिट गयी हस्ती बड़ों की
है हमारी क्या यंहा पर .

सबको अपनी ही पड़ी है
चल रहे सब भावना में
स्वप्न सब बिखरे पड़े जब
है कान्हा कुछ कल्पना में . .

स्वर्ग-सुख के मोह में आ
नरक में मैं बस गया हूँ .
आज जग के जाल में कुछ
बेतरह मैं फंस गया हूँ . .

नाव तो मंझधार में फंस
धार की आश्रित हुई  है
दूर दोनों तट हुए है
और मंजिल खो गयी है .

कौन देगा साथ मेरा
यह प्रबल चिंता सताती . .
मैं अकेला हो गया हूँ
अब नहीं विश्वास थाती . .

18 comments:

  1. interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this site
    to increase visitor.Happy Blogging!!!

    ReplyDelete
  2. कौन देगा साथ मेरा
    यह प्रबल चिंता सताती . .
    मैं अकेला हो गया हूँ
    अब नहीं विश्वास थाती . .
    चिन्ता तो आदमी की दुश्मन है अगर देखा जाये तो आजकल सभी अकेले हैं-- सब अपनी अपनी दुनियां मे मस्त। कविता मे मन के अन्त्र्दुअन्द को बहुत अच्छे से लिखा है आभार्

    ReplyDelete
  3. अकेला हो गया हूँ ..भ्रमित मनोदशा का अच्छा खाका खींचा है ...पर आपने वो सुना है न कि डूबी अपनी कश्ती बस वहाँ पर , बस जहां सामने था किनारा...बस मन को तो यही विश्वास रखना चाहिए कि दो कदम पर ही है मंजिल ...

    ReplyDelete
  4. manobhav ka darshan bahut achha hua hai,behad pasand aayi rachana.

    ReplyDelete
  5. अकेले होकर भी दुकेले होने का भ्रम हो जाता है...

    ReplyDelete
  6. Interesting....
    :नाव तो मंझधार में फंस
    धार की आश्रित हुई है
    दूर दोनों तट हुए है
    और मंजिल खो गयी है .:

    ReplyDelete
  7. Khoobsurat likha hai.Magar tanhai ka malal kaisa.Jaha tak koi sath hai accha aur jo chala gaya use bhool ja.Amhad faraz sb, ka sher hai
    TAMAM UMR KAHAN KOI SAATH DETA HAI
    MEIN JANTA HOON MAGAR THODI DOOR SATH CHALO
    Tanhai to khud ek duniya hoti hai. Tanha hone ka gam door karen.Aao bhai acchi smirtyon ke gale lag kar jeyen.

    ReplyDelete
  8. कौन देगा साथ मेरा
    यह प्रबल चिंता सताती . .
    मैं अकेला हो गया हूँ
    अब नहीं विश्वास थाती ..bahut achcha likha hai..ati sundar

    ReplyDelete
  9. aap akele nahi hain..aapke shabd aapke saath hain, unme shakti hai, orja hai aur dhar hai...unhe gati dijiye...karwa zaroor aapke pichche hoga.

    bahut sundar rachna,badhai!!!

    ReplyDelete
  10. Very Very Nice Blog Thanks for sharing with us

    team http://www.bollywood-4u.com

    ReplyDelete
  11. yekaki man ki pida ka bahut achha varnan.dhanyabad

    ReplyDelete
  12. पढ़कर बहुत अच्छा लगा। धन्यवाद

    ReplyDelete